OPD(ओपीडी) का फुल फॉर्म क्या होता है?

OPD(ओपीडी): OutPatient Department(आउट पेशेंट डिपार्टमेंट)

कृपया शेयर करे

OPD(ओपीडी) का मतलब या फुल फॉर्म Out Patient Department(आउट पेशेंट डिपार्टमेंट)होता है।

आपने यह देखा होगा कि हर अस्पताल में ओपीडी का एक अलग विभाग होता है,जो रोगी और अस्पताल के कर्मचारियों के बीच में संपर्क की पहली स्थिति मानी जाती है।

कोई भी मरीज सबसे पहले अस्पताल में प्रवेश करता है तो उसे OPD (Out patient department) डिपार्टमेंट में लेकर जाया जाता है।

फिर उस पेशेंट की स्थिति के अनुसार ओपीडी का कर्मचारी  तय करता है कि मरीज को किस विभाग में जाना चाहिए।

एक अस्पताल का ओपीडी विभाग हड्डी रोग विभाग, न्यूरोलॉजी विभाग, स्त्री रोग विभाग शामिल होता है।

अगर यहां से मरीज की हालत में सुधार नहीं देखा जाता है, तो उसे आईसीयू में शिफ्ट किया जाता है।

OPD FULL FORM in Hindi
OPD FULL FORM in Hindi

आप अक्सर देख सकते हैं कि, हर अस्पताल में ओपीडी विभाग को ग्राउंड फ्लोर पर ही बनाया जाता है, ताकि मरीज़ों को सुबिधा हो सके।

इसके लिए यह बेहद जरूरी है कि एक ओपीडी कर्मचारी काफी कुशल होना चाहिए, क्योंकि यह विभाग अस्पताल के कार्यों के दर्पण के रूप में कार्य करता है।

हम अगर आसान शब्दों में इसकी व्याख्या करें तो जब कोई व्यक्ति हॉस्पिटल में डॉक्टर से इलाज करवाने जाता है, लेकिन वह डॉक्टर से कंसल्ट कर के वापस आ जाता है उस प्रक्रिया को ओपीडी कहते हैं।

मुख्य रूप से देखा जाए तो यह अस्पताल का वह विभाग होता है, जहां किसी भी रोगियों को चिकित्सीय परामर्श और अन्य सेवाए आसानी से प्राप्त हो जाती है।

ओपीडी(OPD) कितना महत्वपूर्ण है?

ओपीडी मरीज़ों के लिए काफी महत्वपूर्ण और मददगार साबित होता है।

ओपीडी में पेशेंट के आने के बाद ही यह डिसीजन लिया जाता है, कि पेशेंट की हालत कैसी है

और उसे भर्ती करना है, या ओपीडी के इलाज के बाद ही पेशेंट को घर जाने देना है।

यहां पर जो मरीज सबसे ज्यादा सीरियस है, उन्हें आगे की प्रक्रिया या इलाज के लिए भेजा जाता है।

किसी भी अस्पताल में कितने मरीजों का इलाज किया जा सकता है, इसकी एक सीमा होती है
वहां ओपीडी एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है, क्योंकि बहुत सारे मरीज़ जिनकी हालत ज्यादा नाजुक नहीं होती है, वह ओपीडी से ही इलाज कर घर वापस जा सकते हैं

देखा जाए तो ओपीडी एक वैकल्पिक व्यक्तिगत चिकित्सा की तरह है, जो अस्पताल की वातावरण में स्वच्छता का माहौल लाता है।

ओपीडी(OPD) और आईपीडी(IPD) में क्या अंतर है?

आपको हम यह पहले भी जानकारी दे चुके हैं कि ओपीडी OPD (Out patient department)  होता है, जहां

उन रोगियों का इलाज किया जाता है, जिन्हें केवल एक डॉक्टर विशेषज्ञ के साथ परामर्श की आवश्यकता होती है।

पर वही आपको बता दें कि आईपीडी(IPD) अस्पताल केवल उन क्षेत्रों को संदर्भित करता है, जहां मरीजों को  भर्ती करने के बाद डॉक्टर विशेषज्ञ के आधार पर उनकी चिकित्सा की स्थिति को तय किया जाता है।

स्वास्थ्य समस्याएं वाले लोगों लोग जो निदान एवं उपचार के लिए अस्पताल जाते हैं, लेकिन उन्हें कहीं से भी भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है या उन्हें अस्पताल में रहने की भी जरूरत नहीं होती है वे OPD में जाते है।

पर वही देखा जाए तो आईपीडी इमें वे मरीज़ जाते है, जिन्हें  गंभीर चिकित्सा समस्याओं के कारण भर्ती होना पड़ता है, और अस्पताल में रहना पड़ता है।

दरअसल आईपीडी(IPD) के तहत जो भी मरीज होते हैं, उन्हें गंभीर बीमारी के कारण अस्पताल में रहने की इजाजत दी जाती है।

 

स्वास्थ्य से जुड़ी बहुत सारी जानकारी के लिए आप डब्ल्यूएचओ के वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं

Similar Full forms-

ENT Full Form in Hindi

 

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.