ECG(ईसीजी) का फुल फॉर्म क्या होता है?

ECG(ईसीजी): Electro cardio diagram(इलेक्ट्रो कार्डियो डायग्राम)

कृपया शेयर करे

ECG(ईसीजी) का मतलब या फ़ुल फ़ॉर्म Electro cardio diagram(इलेक्ट्रो कार्डियो डायग्राम) होता है।

ECG- Electro cardio diagram एक टेस्ट के तौर पर होता है, जो आमतौर पर आपके दिल की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी को जांचने के लिए किया जाता है।

जहां आपको यह जानकारी दे दे कि सामान्य विद्युत गतिविधि, आपको यह इशारा करती है, कि आपका ह्रदय सामान्य स्थिति से काम कर रहा है।

यह प्रक्रिया के माध्यम से दिल की विद्युत गतिविधि को कागज पर लाइन ट्रेसिंग के रूप में दर्शाता है, जो एक वेव के समान नजर आती है।

अगर आपके दिल में खराबी है, या किसी तरह की कोई परेशानी है, तो इस प्रक्रिया को किया जाता है, जो कि एक रिस्क रहित प्रक्रिया मानी जाती है।

यह आपके शरीर जैसे हाथ, पैर या छाती पर विशेष स्थानों पर इलेक्ट्रोड रखकर किया जाता है।

ECG full form in Hindi
ECG full form in Hindi

 

जानकारी के लिए आपको बता दें कि ईसीजी Electro cardio diogram टेस्ट कराने से पहले आप को इस बात का बिल्कुल खास खयाल रखना है, कि जिस दिन भी आपको  Electro cardio diogram  करानी है,

उस दिन आप अपने शरीर पर कोई चिकना क्रीम या लोशन ना लगाएं,क्योंकि बताया जाता है कि त्वचा पर चिकनाहट आने से इलेक्ट्रोड त्वचा के संपर्क में नहीं आ पाता है।

आप एक महत्वपूर्ण बात भी जान ले कि इसीजी की प्रक्रिया करने से पहले ठंडे पानी ना पिए और ना ही एक्सरसाइज करें, क्योंकि ठंडे पानी के कारण इस टेस्ट को रिकॉर्ड करने में इलेक्ट्रिकल पैटर्न में परिवर्तन आ सकता है।

जहां एक्सरसाइज से आपकी हृदय की गति बढ़ जाती है, जो आपके टेस्ट के रिजल्ट को काफी रूप से प्रभावित कर सकते हैं।

इसलिए इन बातों पर गौर करना आपके लिए काफी महत्वपूर्ण है।

ईसीजी(ECG) की आवश्यकता क्यों है?

हमें ईसीजी की जरूरत इन महत्वपूर्ण बातों का पता लगाने के लिए होती है, जो महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

  • दिल के कक्षों की दीवारों की मोटाई
  • हृदय का एक ओर बढ़ जाना
  • आसामान हृदय की लय
  • अतीत में दिल का दौरा
  • सीने में दर्द के कारण कोलेस्ट्रोल का जमा होना
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति

आपको जानकारी दे दे कि ईसीजी आपके दिल की विद्युत गतिविधि की एक तस्वीर को रिकॉर्ड करने में सक्षम है, लेकिन यह केवल उस वक्त संभव हो सकता है, जिस वक्त आपको मानीटर किया जा रहा हो।

इस प्रक्रिया के माध्यम से आपके हृदय से जुड़ी सारी बातों का पता चल जाता है।

जैसे कि अतीत में दिल का दौरा होना, छाती में दर्द के कारण, सांस लेने में तकलीफ जैसी परेशानी जिससे आप जूझ रहे हैं, तो फिर आपके स्वास्थ्य के लिए ईसीजी का करना काफी जरूरी माना जाता है।

आपको बता दें कि आपकी इस स्ट्रेस टेस्ट और दिल की गतिविधियों का पता लगाने के लिए हमें ईसीजी टेस्ट की आवश्यकता होती है।

कभी-कभी यह देखा जाता है कि किसी व्यक्ति को व्यायाम के दौरान समस्याएं होती है, जिससे कि मौत होने की भी काफी आसार होते हैं।

इसी तरह की गतिविधियों से निपटने के लिए हमें ईसीजी Electro cardio diagram टेस्ट की आवश्यकता होती है।

जहां आप इस जांच से यह पता लगा सकते हैं कि मनुष्य कितने तनाव में है या कितना स्वास्थ्य है।

क्या ईसीजी का कोई दुष्प्रभाव होता है?

आपके लिए यह एक बेहद ही महत्वपूर्ण जानकारी है जहां आपको बता दें कि आमतौर पर देखा गया है, कि आमतौर पर ईसीजी कराने से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता है,लेकिन शरीर के जिन भागों में इलेक्ट्रोड लगाए जाते हैं, उसे निकालने के बाद वहां सूजन और चकत्ते पड़ सकते हैं।

आपको बता दें कि यदि आप रोजाना इलेक्ट्रोड को नहीं निकालते हैं, तो फिर हॉल्टर मॉनिटर के कारण आपकी त्वचा में जलन हो सकती है।

कुछ महत्वपूर्ण बातें जिसके कारण ईसीजी किया जाता है-

दिल का दौरा पड़ना

इसके दुष्परिणामों में यह देखा जाता है कि मरीजों को दिल का दौरा पड़ने से रक्त के प्रवाह में रुकावट होती है, जिसकी वजह से हृदय के टिशु में ऑक्सीजन की कमी और मृत्यु होने की भी ढेरों चांसेस होते हैं।

दिल के आकार में कमी

यह संकेत देता है कि दिल के वाल्व एक दूसरे से बड़े हैं साथ ही इससे यह भी पता चलता है कि हृदय रक्त पेप करने के लिए सामान्य से ज्यादा मेहनत कर रहा है।

इलेक्ट्रोलाइट मैसेज लेना

यह वैसे उपकरण होते हैं जो शरीर में चलते हैं जो हमारे हृदय की मांसपेशियों की लय को बरकरार रखता है।

पोटेशियम कैल्शियम और मैग्नीशियम एक ऐसे इलेक्ट्रोलाइट है जिसकी जरूरत हमारे शरीर को होती है।

दिल के रिदम में असमानताए

यह बात सबको पता है कि दिल आमतौर पर एक बैलेंस रिदम में धड़कता है।

अगर दिल आउट ऑफ बीट के सीक्वेंस में धड़कता है तो इस बदलाव को ईसीजी प्रकट कर सकता है।

ईसीजी के लाभ

अक्सर लोगों के मन में यह धारणा बनी रहती है कि ईसीजी टेस्ट बहुत महंगा होता है।

पर आपको बता दें कि ऐसा कुछ नहीं है, ना तो यह बहुत ज्यादा महंगा होता है, ना ही टेस्ट करवाते समय किसी तरह की कोई शारीरिक दर्द महसूस होती है।

आप बहुत ही आसानी से लगभग 100 से ₹500 के अंदर इस टेस्ट को किसी भी हॉस्पिटल में करवा सकते हैं, तो इस तरह आपको हम बताने जा रहे हैं कि ईसीजी टेस्ट के क्या फायदे हैं:-

दिल की इलेक्ट्रिक एक्सेस

आपको शायद यह जानकारी नहीं होगी, पर बता दे कि, यह दिल के इलेक्ट्रिक एक्सेस का सही निर्धारण करने और दिल की विभिन्न समस्याओं के निदान में उपयोगी माना जाता है।

हृदय की दर

यह वह समय को दर्शाता है जिस अनुसार एक व्यक्ति का दिल प्रति मिनट धड़कता है।

यह पुरुष के लिए नियमित रूप से दिल की दर 60 से 80 के बीच है।वहीं महिलाओं के लिए यह दर 70 और 90 के बीच होती है।

दिल की जांच

यह एक ऐसा परिश्रण होता है जिस माध्यम से आप दिल की समस्याओं का निदान आसानी से कर सकते हैं।

यह आप आसानी से यह जांच कर सकते हैं कि आपका दिल स्वस्थ है कि नहीं , इस प्रक्रिया से आप अपने दिल की पूरी निगरानी कर सकते है।

 

तो दोस्तों, मुझे उम्मीद है, की ईसीजी फ़ुल फ़ॉर्म के बारे में यह अरतकले आपको ECG की पूरी जानकारी देता है।

हेल्थ से जुड़ी बहुत सारी जानकारी के लिए आप WHO वेब्सायट पर विज़िट कर सकते है।

Similar Full forms

BCG Full Form in Hindi 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.