OTP(ओटीपी) का फुल फॉर्म क्या होता है?

OTP(ओटीपी): One Time Password (वन टाइम पासवर्ड)

कृपया शेयर करे

OTP(ओटीपी) का मतलब या फुल फॉर्म  One Time Password (वन टाइम पासवर्ड) होता है।

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है यह एक ऐसा पासवर्ड होता है जिसका यूज केवल एक बार किया जा सकता है।

अलग-अलग तरह के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए वन टाइम पासवर्ड की जरूरत होती है।

OTP full form in Hindi
OTP full form in Hindi

आपका बैंक या कोई अन्य सर्विस प्रोवाइडर आपको वन टाइम पासवर्ड देता है ताकि आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान यह सिद्ध कर सके कि ट्रांजैक्शन आप ही कर रहे हैं।

वन टाइम पासवर्ड ने ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को बहुत हद तक सिक्योर बना दिया है, और जो लोग सावधानी से वन टाइम पासवर्ड का यूज करते हैं, उनके साथ ऑनलाइन फ्रॉड होने का चांस बहुत कम हो जाता है।

तो इस आर्टिकल में हम ओटीपी मतलब वन टाइम पासवर्ड के बारे में पूरी जानकारी हासिल करेंगे।

OTP(ओटीपी)  क्या होता है?

जैसा की आपको पहले ही बताया जा चुका है, की ओटीपी का मतलब होता है वन टाइम पासवर्ड।

एक ऐसा पासवर्ड जिसे आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के दौरान केवल एक बार ही यूज कर सकते हैं।

आज के इस नए युग में जब हम अपना बहुत सारा काम ऑनलाइन करते हैं, जैसे की शॉपिंग, बैंकिंग, पेमेंट आदि।

तो वहीं पर ऑनलाइन फ्रॉड होने का भी चांस बना रहता है।

जब भी हम कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो हमें अपना यूजर आईडी और पासवर्ड इंटर करना होता है

इसके साथ ही एक एक्स्ट्रा सिक्योरिटी लेयर का भी यूज़ किया जाता है जिसे वन टाइम पासवर्ड करते हैं

जब भी आप किसी ट्रांजैक्शन के लिए अपना यूजर आईडी और पासवर्ड इंटर करते हैं, उसके बाद ट्रांजैक्शन के अंतिम प्रक्रिया में आपके पास एक वन टाइम पासवर्ड आपके मोबाइल या ईमेल आईडी पर आता है, जिसे दर्ज करने के बाद ही आपका ट्रांजैक्शन पूरा हो पाता है

ओटीपी कुछ निर्धारित समय तक के लिए ही वैलिड होता है अगर उस निर्धारित समय के दौरान अगर आपने उस ओटीपी को यूज़ नहीं किया तो वह बेकार हो जाता है

अलग-अलग ट्रांजैक्शन के लिए हर बार आपको एक नया ओटीपी आपके सर्विस प्रोवाइडर की तरफ से दिया जाता है ओटीपी चार या 6 अंकों का होता है
जो अंक या, अंक और अक्षर का मिलाजुला रूप हो सकता है

जैसे कि अगर आप अपना डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन यूज करते हैं, तो आपको आपके बैंक की तरफ से उस ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए एक वन टाइम पासवर्ड भेजा जाता है जो 10 मिनट से लेकर 30 मिनट तक वैलिड रह सकता है

OTP(ओटीपी) कैसे काम करता है?

ओटीपी या वन टाइम पासवर्ड किसी भी ट्रांजैक्शन को पूरा करने के दौरान जनरेट होता है
ओटीपी हाईली सिक्योर होता है। क्योंकि यह सिस्टम के द्वारा अपने आप जनरेट किया जाता है, और इसमें कहीं से भी इंसानी दखलंदाजी नहीं होता है

वन टाइम पासवर्ड का वैल्यू हैस्ड मैसेज ऑथेंटिकेशन कोड अल्गोरिथम (Hashed message authentication code algorithm) और मूविंग फैक्टर जैसे की टाइम बेस्ड इनफार्मेशन या इवेंट काउंटर के द्वारा गेनेराते होता है.

तो मान लिया कि आप कोई बैंकिंग ट्रांजैक्शन कर रहे हैं. तो उस के दौरान जो ओटीपी जनरेट हुआ है. वह आपके अलावा किसी और को पता नहीं होता है
यहां तक कि आपके बैंक के कर्मचारी को भी नहीं

आपकी किसी भी ट्रांजैक्शन के दौरान जो ओटीपी आपको मिला है, उसे जब आप सिस्टम पर दर्ज करते हैं, तो सिस्टम उसे जनरेट किए हुए पासवर्ड के साथ मिलान करता है
अगर जो पासवर्ड सिस्टम ने जेनेरेट किया था, वही आपने दर्ज किया, तो आपका ट्रांजैक्शन सक्सेसफुल हो जाता है

ओटीपी (OTP) का यूज कहां -कहां होता है?

आज किसी भी तरह का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने के लिए ओटीपी की जरूरत होती है, निम्न प्रमुख स्थानों पर आपको ओटीपी का प्रयोग करना होता है

  • बैंकिंग ट्रांजैक्शन के दौरान
  • ऑनलाइन शॉपिंग के दौरान
  • ऑनलाइन किसी भी सर्विस का लाभ उठाते समय
  • सोशल मीडिया और अन्य प्लेटफार्म पर अपना अकाउंट बनाते समय

ओटीपी (OTP) कैसे प्राप्त किया जा सकता है?

अलग-अलग प्लेटफार्म पर अलग-अलग सर्विसेस का प्रयोग करने के लिए आप अलग अलग ढंग से ओटीपी प्राप्त कर सकते हैं

निम्न चार तरह से आप अपनी ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए ओटीपी प्राप्त कर सकते हैं-

  1. s.m.s. के द्वारा
  2. ईमेल के द्वारा
  3. वॉइस कॉल के द्वारा
  4. डाक के द्वारा

आज अधिकतर बैंकिंग ट्रांजैक्शन के लिए ओटीपी s.m.s. या ईमेल के द्वारा प्राप्त किया जाता है

वहीं कई जगह पर आपको Voice ओटीपी की भी सुविधा मिलती है

डाक के द्वारा ओटीपी आपको कुछ ही ट्रांजैक्शन के लिए दिया जाता है, जैसे कि वैसा ट्रांजैक्शन जिसमें आप का एड्रेस वेरिफ़िकेशन भी होना है

तो उस मामले में आप का ओटीपी आपको पोस्ट द्वारा आपके रजिस्टर्ड एड्रेस पर भेजा जाता है

डाक से मिलने वाले पासवर्ड में यूजर और उसके पता दोनों की पहचान एक साथ हो जाती है

ओटीपी कैसा होता है?

ओटीपी अक्षर या अंक और अक्षर का मिलाजुला रूप हो सकता है

अधिकतर बैंकिंग ट्रांजैक्शन के लिए जो ओटीपी आपको प्राप्त होता है, वह अंक ही होता है ओटीपी 4 से 6 अंक का हो सकता है

Example of OTP-

Numeric OTP- 548736

Alphanumeric password- ILB- 229634

OTP on Mobile
OTP on Mobile

ओटीपी कितना सिक्योर होता है?

ओटीपी बहुत ही सिक्योर होता है

ओटीपी जिस यूजर द्वारा जनरेट किया गया है, केवल उसी को पता होता है, यह उस यूजर के मोबाइल और ईमेल आईडी पर प्राप्त होता है

ओटीपी को सिक्योर बनाने के लिए समय के साथ इसमें और भी सिक्योरिटी फीचर जोड़ा जाता रहता है

ओटीपी के फायदे

ऑनलाइन कि इस दुनिया में ओटीपी ट्रांजैक्शंस को सेक्युरीली पूरा करने में बहुत मददगार साबित हो रहा है, ओटीपी के कुछ प्रमुख फायदे निम्न है-

  • ओटीपी आपको ऑनलाइन फ्रॉड होने से बचाता है
  • कई बार जब हम अपना क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड कहीं स्वाइप करते हैं तो कई धोखेबाज उसे कॉपी कर ले सकते हैं ,लेकिन ओटीपी के कारण वे किसी भी तरह का कोई ट्रांज़ैक्शन नहीं कर पाएंगे
  • ओटीपी किसी भी हालत में रजिस्टर्ड मोबाइल और ईमेल आईडी पर ही डिलीवर होता है
  • किसी भी ट्रांजैक्शन के दौरान जनरेट होने वाला ओटीपी केवल यूजर को ही पता होता है

अपना ओटीपी किसी के साथ शेयर क्यों नहीं करना चाहिए?

अक्सर आपको आपके बैंक और दूसरे सर्विस प्रोवाइडर हमेशा सलाह देते हैं, कि अपना ओटीपी किसी भी हाल में किसी भी व्यक्ति, चाहे वह बैंक का ही क्यों ना हो नहीं बताना चाहिए

क्योंकि ओटीपी किसी भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का लास्ट स्टेप से होता है

अगर किसी कारण से किसी व्यक्ति के पास आपका कार्ड डिटेल्स या इंटरनेट बैंकिंग डिटेल चला गया है, तो वह किसी भी प्रकार का ट्रांजैक्शन तभी कर पाएगा

जब उसे आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर मिलने वाला ओटीपी पता होगा

इसलिए कभी भी किसी भी हाल में किसी भी पर्सन को अपना ओटीपी नहीं बताना चाहिए

 

क्या ओटीपी के बिना भी बैंकिंग ट्रांजैक्शन किया जा सकता है?

जी हां बहुत सारी ऐसे सर्विस प्रोवाइडर हैं,जहां अगर आप अपना कार्ड ऑनलाइन यूज करते हैं तो बिना ओटीपी के भी आपका ट्रांजैक्शन पूरा हो जाएगा

इसीलिए कभी भी आप अपना कार्ड डिटेल्स किसी को ना बताएं

 

तो दोस्तों उम्मीद है कि ओटीपी फुल फॉर्म के बारे में यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा

अगर आप ही आर्टिकल इंग्लिश में पढ़ना चाहें तो फुल फॉर्म डॉट वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं

आप कोई जानकारी या सुझाव देना चाहते हैं तो कमेंट करके बता सकते हैं

 

आईसीआईसीआई की तरफ से सेफ बैंकिंग टिप्स

Similar Full forms

PAN full form in Hindi

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.