LED (एलईडी) का फुल फॉर्म क्या होता है?

LED (एलईडी): Light Emitting Diode (लाइट एमिटिंग डायोड)

कृपया शेयर करे

LED (एलईडी) का मतलब या फुल फॉर्म  Light Emitting Diode (लाइट एमिटिंग डायोड) होता है।

एलईडी मतलब लाइट एमिटिंग डायोड एक सेमीकंडक्टर लाइट सोर्स है जो पहले से डिफाइन वोल्टेज अप्लाई करने पर लाइट ईमित करता है।

मूल रूप से यह एक पीएन-जंक्शन डायोड है, जो थ्रेशोल्ड वोल्टेज के ऊपर एक वोल्टेज सप्लाई होने पर प्रकाश का उत्सर्जन करता है।

 

LED Full Form in Hindi
LED Full Form in Hindi

 

एलईडी आज आपने बहुत सारे अच्छे क्वालिटी के कारण बहुत सारे इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट्स में यूज किया जाता है।

एलईडी एक लेटेस्ट इन्वेंशन है, जिसका उपयोग आज सबसे ज्यादा लोगों के द्वारा किया जाता है।

यही वजह है कि एलईडी की लोकप्रियता और इसका उपयोग दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है ।

LED (एलईडी) का निर्माण

एलईडी पी और एन-प्रकार अर्धचालक सामग्री को मर्ज करके बनाया जाता है।

जैसा कि हम जानते हैं, एक नॉर्मल सेमीकंडक्टर डायोड में सिलिकॉन और जर्मेनियम का प्रयोग किया जाता है, लेकिन लाइट एमिटिंग डायोड में इस सेमीकंडक्टर मटेरियल का प्रयोग नहीं किया जाता है ।
इसके जगह पर गैलियम आर्सेनाइड(GaAs) या गैलियम आर्सेनाइड फास्फेट (GaAsP) का प्रयोग किया जाता है।

इस मटेरियल का प्रयोग एलईडी में इसके स्पेशल कैरेक्टरिस्टिक के कारण होता है इस मटेरियल का यह गुण होता है, की वोल्टेज अप्लाई करने पर यह गर्मी नहीं, लाइट एमिट करता है।

एलईडी का निर्माण फॉरवर्ड बायस डिवाइस के रूप में किया जाता है।

एलईडी का सिद्धांत और कार्यप्रणाली

एलईडी इलेक्ट्रोल्यूमिनेशन के सिद्धांत पर काम करता है।

सेमीकंडक्टर सामग्री का गुण जिसके द्वारा यह विद्युत ऊर्जा को लाइट एनर्जी में परिवर्तित करता है, इलेक्ट्रोल्यूमिनिसेंस कहलाता है।

जैसा कि पहले कहा गया है कि एलईडी एक फॉरवर्ड बायस सेमीकंडक्टर डिवाइस है, जिसका अर्थ है कि यह तब काम करना शुरू करेगा जब डायोड का पी टर्मिनल बैटरी की सकारात्मक क्षमता से जुड़ा होगा, और डिवाइस का एन टर्मिनल बैटरी के नकारात्मक टर्मिनल से।

इसलिए पी पक्ष में होल्स बैटरी द्वारा लागू सकारात्मक वोल्टेज के कारण प्रतिकर्षण का अनुभव करता है, और एन साइड में इलेक्ट्रॉनों को बैटरी द्वारा नकारात्मक आपूर्ति के कारण प्रतिकर्षण का अनुभव होता है।

इस प्रतिकर्षण के कारण इलेक्ट्रॉन कंडक्शन बैंड से वैलेंस बैंड की ओर बढ़ने लगते हैं।

उनके मूवमेंट के दौरान electrons द्वारा कुछ ऊर्जा छोड़ा जाता है , लेकिन एक एलईडी के मामले में, यह एलईडी की मटेरियल की विशेषता के कारण, प्रकाश ऊर्जा का उत्सर्जन करता है।

एलईडी के विभिन्न रंग

आज एलईडी सभी रंगों में उपलब्ध है, और हम अपनी जरूरत के हिसाब से एलईडी का चुनाव कर सकते हैं।

लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की शुरुआत में एलईडी केवल लाल रंग का ही होता था, और समय के साथ इसके बाकी कलर्स को भी बनाया गया।

लेकिन सबसे ज्यादा मुश्किल था, एलईडी से वाइट कलर को प्राप्त करना, और हाल में ही कुछ साल पहले इसमें सफलता प्राप्त की गई।

जिसके बाद होम लाइटनिंग में सबसे ज्यादा एलईडी का प्रयोग होने लगा।

एलईडी का उपयोग

आज एलईडी का प्रयोग बहुत सारे जगह पर हो रहा है जिनमें से कुछ प्रमुख उदाहरण निम्न है-

  • टीवी बैकलाइटिंग
  • स्मार्टफोन बैकलाइटिंग
  • एलईडी डिस्प्ले
  • ऑटोमोटिव लाइटिंग
  • डीमिंग लाइट
  • एलइडी वॉलपेपर
  • होम लाइटनिंग
  • होम डेकोरेशन
LED Applications in Hindi
LED Applications in Hindi

एलईडी के फायदे

पुराने लाइट के मुकाबले एलईडी के बहुत सारे फायदे हैं, जिसके कारण आज एलईडी इतना ज्यादा फेमस हो गया है, कुछ प्रमुख फायदे निम्न है

कम ऊर्जा का खपत-

अभी तक जितने भी तरह के लाइट सोर्स का खोज किया गया है, उनमें सबसे ज्यादा एनर्जी एफिशिएंट एलईडी है।

पुराने बल्ब से एलईडी कितना एनर्जी एफिशिएंट है, आप इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं, कि एक 9 वाट का एलईडी 100 वाट के पुराने बल्ब से ज्यादा रोशनी देता है।

आज एलईडी इतना ज्यादा एनर्जी एफिशिएंट हो गया है कि एक वाट बिजली खर्च कर 303 लुमेंस लाइट प्राप्त किया जा सकता है।

कम ऊर्जा खपत भी एक कारण है कि आज एलसीडी टीवी को एलईडी टीवी द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है।

लंबे समय तक चलना-

एलईडी लाइट लंबे समय तक प्रयोग किया जा सकता है
यह भी एक बहुत बड़ा कारण है, कि एलईडी इतना ज्यादा फेमस है, और हर जगह प्रयोग किया जाता है

आज कुछ एलईडी लाइट्स हैं जिसका प्रयोग आप 100000 घंटे से भी ज्यादा समय तक कर सकते हैं

दाम का कम होना-

एलईडी का दाम आज बहुत ही कम रह गया है, और रिसर्च के साथ हर दिन कम ही होता जा रहा है
आज एक 9 वाट के एलईडी बल्ब का दाम ₹50 के करीब ही रह गया है

रीसाइकिलेबल- 

एलईडी लाइट को आसानी से रिसाइकल किया जा सकता है और इसमें लागत भी कम आती है।

कॉम्पैक्ट आकार और हल्के वजन-

एलईडी का वजन बहुत ही कम होता है, और साइज में बहुत ही छोटा होता है, जिसके कारण इसका प्रयोग हर जगह पर किया जा सकता है

पर्यावरण के अनुकूल-

एलईडी पर्यावरण के अनुकूल भी है, क्योंकि इसमें सीएफएल बल्ब की तरह पारा, सीसा या कैडमियम नहीं है

 

एलईडी पूछे जाने वाले प्रश्न

 एलईडी एसी या डीसी करंट पर काम करता है?

एलईडी डीसी करंट सप्लाई पर ही काम करती है।

एलईडी केवल फ़ॉर्वर्ड बाइयस  में काम करता है, इसलिए इसे ठीक से काम करने के लिए केवल एक दिशा में करेंट मिलना चाहिए।

हमारे अधिकांश इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में जहां एलईडी का उपयोग किया जाता है, हम एसी करंट को डीसी में बदलते हैं और फिर एलईडी की आपूर्ति करते हैं।

यदि हम एलईडी को एसी करंट सप्लाई करते हैं, तो एलईडी ब्लिंक करना शुरू कर देगी, क्योंकि एसी में करंट की दिशा बदलती रहती है।

 

Similar full forms-

LCD full form in Hindi

 

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.