BCA (बीसीए) का फुल फॉर्म क्या होता है?

BCA (बीसीए): Bachelor of Computer Application (बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन)

कृपया शेयर करे

BCA (बीसीए) का मतलब या फुल फॉर्म Bachelor of Computer Application (बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन) होता है।

बीसीए 3 साल का अंडरग्रैजुएट कोर्स है जिसके दौरान स्टूडेंट कंप्यूटर और आईटी से रिलेटेड गहन नॉलेज प्राप्त करते हैं।

इस कोर्स के दौरान स्टूडेंट कंप्यूटर से रिलेटेड सभी इंपॉर्टेंट एरियाज के बारे में पढ़ते हैं जैसे कि बेसिक प्रोग्रामिंग बेसिक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग।

 

BCA full form in Hindi
BCA full form in Hindi

 

जो स्टूडेंट कंप्यूटर के फील्ड में नॉलेज प्राप्त करना और आगे अपना कैरियर बनाना चाहते हैं उनके लिए यह बेहतरीन कोर्स है।

बीसीए कोर्स कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के बाद सबसे अच्छा कंप्यूटर से रिलेटेड कोर्स है जो कंप्यूटर और आईटी सेक्टर का अच्छा नॉलेज और अच्छी नौकरी की गारंटी देता है।

आज बहुत सारे लोग यहां तक भी मानते हैं, कि बीसीए कोर्स करना, और कंप्यूटर साइंस से रिलेटेड किसी ब्रांच से इंजीनियरिंग करना, दोनों लगभग बराबर ही है।

बीसीए के लाभ

बीसीए कोर्स आज बहुत ज्यादा फेमस, और बहुत सारे स्टूडेंट जिनको कंप्यूटर के फील्ड में इंटरेस्ट है, का पहला चॉइस बनता जा रहा है, क्योंकि यह कोर्स करने के बाद कोई स्टूडेंट कंप्यूटर फील्ड से रिलेटेड लगभग सभी प्रकार का काम कर सकता है।

इसीलिए बहुत सारी राज्य सरकारें और केंद्र सरकार भी इस कोर्स को प्रमोट कर रही है, और सरकारी कॉलेज में इस कोर्स के लिए फीस बहुत कम रखा जाता है ,ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्किल्ड बनाया जा सके।

BCA (बीसीए) पाठ्यक्रम पात्रता

बीसीए कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया बहुत ही आसान है, कोई भी एक स्टूडेंट जिसमें मिनिमम 45% मार्क्स के साथ ट्वेल्थ पास किया है, यह कोर्स ज्वाइन कर सकता है (आरक्षित श्रेणी के छात्रों के लिए 40%)।

बीसीए कोर्स की एक अच्छी बात यह भी है कि इसमें साइंस, कॉमर्स या आर्ट्स लेकर 12th कर चुके सभी एक्सीडेंट ज्वाइन कर सकते हैं।

जिन स्टूडेंट्स ने 10th के बाद कोई डिप्लोमा कोर्स कर लिया है वे भी बीसीए कोर्स ज्वाइन कर सकते हैं।

 

बीसीए पाठ्यक्रम प्रवेश प्रक्रिया

बीसीए कोर्स में एडमिशन की प्रक्रिया दो तरह की हो सकती है एंट्रेंस एग्जाम के थ्रू या डायरेक्ट ऐडमिशन

बीसीए कोर्स के लिए सीधा प्रवेश-

पूरे इंडिया में आज बहुत सारे ऐसे कॉलेज हैं जहां आपको bca कोर्स के लिए डायरेक्ट एडमिशन, आपके ट्वेल्थ मार्क के बेसिस पर मिल जाता है, यह एडमिशन प्रक्रिया फर्स्ट कम फर्स्ट सर्व बेसिस पर होती है।

प्रवेश परीक्षा के माध्यम से बीसीए में प्रवेश-

बहुत सारे प्राइवेट और सरकारी बीसीए कॉलेज हैं जहां बीसीए कोर्स में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम के स्कोर के आधार पर मिलता है।

कुछ फेमस बीसीए एंट्रेंस एग्जाम निम्न है-

  • AIMA UGAT- अखिल भारतीय प्रबंधन संघ द्वारा
  • IPU CET- गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय द्वारा
  • जीसैट- जीतम यूनिवर्सिटी द्वारा
  • SUAT- शारदा यूनिवर्सिटी द्वारा
  • BUMAT- भारती विद्यापीठ द्वारा

BCA पाठ्यक्रम के दौरान छात्र क्या अध्ययन करते हैं?

बीसीए कोर्स के दौरान छात्रों को कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर दोनों की जानकारी दी जाती है।

इस कोर्स के दौरान, छात्रों को कंप्यूटर से संबंधित ज्यादातर पेपर पढ़ना पड़ता है, जैसे- अलग-अलग भाषा (C, C ++, JAVA), वेब डेवलपमेंट, एप्लिकेशन डेवलपमेंट, वेब सिक्योरिटी आदि।

इस पाठ्यक्रम के दौरान, प्रबंधन या विपणन के विषयों को अलग-अलग कंप्यूटर पेपरों के अलावा पढ़ा जाता है।
प्रबंधन पेपर छात्रों को सिखाया जाता है, ताकि वे कंप्यूटर और मार्केटिंग का उपयोग करके बेहतर रोजगार प्राप्त कर सकें, और अच्छे पैसे कमा सकें।

टॉप कॉलेजेस

  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बेंगलुरू
  • लोयला कॉलेज, चेन्नई
  • गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • एसआरएम यूनिवर्सिटी, चेन्नई
  • सिंबोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ कंप्यूटर स्टडीज एंड रिसर्च, पुणे
  • स्टेला मारिस कॉलेज, चेन्नई
  • भारती विद्यापीठ, पुणे

कैरियर संभावना

BCA career prospect
BCA career prospect

 

बीसीए पाठ्यक्रम लेने के बाद, एक अच्छे करियर की कई संभावनाएं हैं, कई भूमिकाएं हैं जिनमें से किसी को काम करने का मौका मिल सकता है।

वेब डेवलपर-

बीसीए कोर्स करने के बाद, कई छात्र वेब डेवलपर के रूप में कार्यरत हो जाते हैं, जहां वे वेबसाइट विकास और रखरखाव के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करते हैं।

सिस्टम अभियन्ता-

एक सिस्टम इंजीनियर के रूप में, जब एक बीसीए छात्र काम करता है, तो उसका काम सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, सर्किट टेस्ट आदि होता है।

सॉफ्टवेयर डेवलपर-

एक BCA छात्र को सॉफ्टवेयर डेवलपर की भूमिका भी मिल सकती है, इस भूमिका में, उसका काम सॉफ्टवेयर विकास, रखरखाव और परीक्षण है।

कार्यकारी प्रबंधक-

सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर का काम विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर और सर्वर को बनाए रखना और प्रबंधित करना है।

Programmer-

एक प्रोग्रामर के रूप में, BCA छात्र विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों के लिए कोडिंग करता है।

बीसीए कोर्स के बाद उच्च शिक्षा

बीसीए कोर्स करने के बाद, कई छात्रों को अच्छी नौकरी मिल जाती है, फिर भी कई छात्र उच्च शिक्षा के लिए जाना चाहते हैं, ताकि वे कंप्यूटर क्षेत्र में मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकें।
उनके लिए कुछ महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम विकल्प इस प्रकार हैं-

  • एमसीए
  • एमएससी कंप्यूटर साइंस
  • एमएससी आईटी

सैलरी

बीसीए करने के बाद स्टूडेंट एक अच्छी सैलरी की उम्मीद कर सकते हैं, शुरुआत में बीसीए स्टूडेंट्स को 10 से ₹20000 महीने का सैलरी मिल सकता है, लेकिन एक्सपीरियंस के साथ यह सैलरी बहुत जल्दी बढ़ जाता है।

सैलरी आपकी कंपनी और आपके रोल पर भी डिपेंड करता है।

अक्सर देखा गया है बीसीए करने के बाद बहुत सारे स्टूडेंट अपना खुद का कंप्यूटर से रिलेटेड बिज़नेस शुरू करते हैं, और अच्छी कमाई करते हैं।

BCA (बीसीए) के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या 12 वीं के बाद बीसीए एक अच्छा कोर्स है?

ट्वेल्थ के बाद जिन स्टूडेंट का इंटरेस्ट कंप्यूटर के फील्ड में आगे पढ़ाई करने, या एक ऐसा कोर्स करने की है, जो कम खर्च में एक ऐसा डिग्री और नॉलेज दे सके, जिससे अच्छी नौकरी और अच्छी सैलरी मिलने की उम्मीद बहुत ज्यादा हो, तो उनके लिए बीसीए कोर्स बहुत ही बेहतरीन साबित हो सकता है

आने वाले भविष्य को देखते हुए, बीसीए एक बहुत ही बेहतरीन कोर्स है

इसी तरह की फुल फॉर्म

बीबीए फुल फॉर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.