B. Ed (बीएड) का फुल फॉर्म क्या होता है?

B. Ed (बीएड): Bachelor Of Education(बैचलर ऑफ एजुकेशन)

कृपया शेयर करे

B.Ed (बीएड) का फ़ुल फ़ॉर्म  बैचलर ऑफ एजुकेशन होता है।

B.Ed का फुल फॉर्म आपको यहां पता चल गया, कि बैचलर ऑफ एजुकेशन होता है ,
तो आइए अब बैचलर ऑफ एजुकेशन कोर्स के बारे में पूरी जानकारी हासिल करते हैं।

B.Ed या बैचलर ऑफ एजुकेशन टीचर ट्रेनिंग का कोर्स है जिसको करने के बाद आप टीचर बनने के लिए एलिजिबल हो जाते हैं।

एनसीईआरटी के नियम के अनुसार अगर आप किसी भी लेवल पर टीचर बनना चाहते हैं तो आपको टीचर ट्रेनिंग कोर्स करना जरूरी होता है।

अलग अलग लेवल के लिए अलग अलग तरह का टीचर ट्रेनिंग कोर्स करना होता है।

B. Ed full form in Hindi
B. Ed full form in Hindi

अगर आप हायर सेकेंडरी लेवल तक के बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको B.Ed करना जरूरी होता है।

टीचर की नौकरी एक ऐसा नौकरी होता है जिसमें आपको अच्छी सैलरी के साथ-साथ बहुत सारा रिस्पेक्ट भी मिलता है, और आपका यह सपना पूरा करने में B.Ed कोर्स आपकी मदद करता है।

बी एड कोर्स के दौरान छात्र क्या सीखते हैं?

बहुत सारे लोगों को, बच्चों को पढ़ाना एक बहुत ही आसान काम मालूम पड़ सकता है लेकिन ऐसा होता नहीं है।

बच्चों को उनके लेवल पर जाकर पढ़ाना मन को समझा पाना एक बहुत ही जटिल प्रक्रिया होती है।

इसलिए इस कोर्स के दौरान आपको सीख लाया जाता है कि आप कैसे बच्चों को समझ सकते हैं कैसे कोई भी विषय उनको बेहतर समझा सकते हैं।

मतलब यह हुआ कि इस कोर्स के दौरान आपको पढ़ाया जाता है कि बच्चों को पढ़ाना कैसे हैं।

B.Ed कोर्स कितने साल होता है

B.Ed कोर्स 2 साल का होता है जिसे कोई भी स्टूडेंट ग्रेजुएशन करने के बाद कर सकता है।

लेकिन 2018 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के द्वारा B.Ed कोर्स को और ज्यादा प्रोफेशनल बनाने के लिए, कोर्स को 4 साल के इंटीग्रेटेड कोर्स में बदलने का फैसला किया गया।

4 साल के इंटीग्रेटेड कोर्स के अंतर्गत आपके पास ऑप्शन होता है कि आप BA , बीएसई या बीकॉम के साथ बीएड कोर्स भी कर सकते हैं ।
आपको 4 साल पूरा होने के बाद एक साथ 2 डिग्री मिल जाएगा।

अभी २ साल के बीएड कोर्स को बंद नहीं किया गया है, ताकि जो स्टूडेंट्स अपना ग्रेजुएशन कर चुके है, वे भी अपना बीएड कर सके।

अगर आप अभी ट्वेल्थ में है और B.Ed कोर्स में इंटरेस्टेड हैं तो आपके लिए इंटीग्रेटेड कोर्स करना ज्यादा बेहतर रहेगा।

 

बीएड कोर्स के लिए पात्रता (Eligibility)-

अगर आप ग्रेजुएशन के बाद B.Ed करना चाहते हैं तो उसके लिए पात्रता , कम से कम 50 परसेंट ग्रेजुएशन में होना चाहिए।

एससी एसटी और फिजिकली हैंडिकैप्ड लोगों के लिए पांच परसेंट का कंसेशन दिया जाता है।

वहीं अगर आप 4 साल का इंटीग्रेटेड B.Ed कोर्स करना चाहते हैं तो आप आपका 12th में परसेंटेज कम से कम 50 होना चाहिए।

यहां भी एससी एसटी और फिजिकल हैंडिकैप्ड लोगों को पांच परसेंट का रिलैक्सेशन मिलता है।

बीएड इंटीग्रेटेड कोर्स के विकल्प-

बैचलर ऑफ आर्ट्स (बीए) + बीएड = 4 साल

बैचलर ऑफ साइंस (बीएससी) + बीएड = 4 साल

बैचलर ऑफ कॉमर्स (बी कॉम) + बीएड = 4 साल

 

बीएड कोर्स के अंतर्गत स्पेशलाइजेशन-

B.Ed कोर्स के अंतर्गत बहुत सारे स्पेशलाइजेशन मौजूद हैं जिनमें से आप किसी एक को चुन सकते हैं

  • अंग्रेजी, हिन्दी, संस्कृत
  • उर्दू, पंजाबी, भौतिकी
  • कॉमर्स,  तमिल,  हियरिंग बिगड़ा(impaired)
  • गणित,  इतिहास,  राजनीति विज्ञान
  • अर्थशास्त्र,  मनोविज्ञान,  भूगोल
  • रसायन, विज्ञान, जीव विज्ञान, एकीकृत विज्ञान
  • समाजशास्त्र,  सामाजिक,  विज्ञान गृह विज्ञान

B.Ed कोर्स ऐडमिशन प्रोसीजर-

B.Ed कोर्स में आपको दो तरह से एडमिशन मिल सकता है पहला डायरेक्ट एडमिशन और दूसरा एंट्रेंस एग्जाम के थ्रू

अधिकतर प्राइवेट कॉलेज में आपको सीधे ऐडमिशन आपके मार्क के बेसिस पर मिल जाएगा।

लेकिन सरकारी कॉलेज में एडमिशन के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम लिखना होगा।

टॉप के एंट्रेंस एग्जाम बी एड कोर्स में एडमिशन के लिए निम्न है-

  • बिहार बीएड प्रवेश परीक्षा
  • उत्तर प्रदेश बीएड जेईई
  • आईपीयू- सीईटी
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, यूईटी
  • मध्य प्रदेश बी.एड प्रवेश परीक्षा
  • तेलंगाना राज्य शिक्षा आम प्रवेश परीक्षा
  • गुजरात विश्वविद्यालय शिक्षा प्रवेश परीक्षा
  • महाराष्ट्र बीएड कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • जम्मू और कश्मीर बीएड प्रवेश परीक्षा
  • पंजाब यूनिवर्सिटी बीएड प्रवेश परीक्षा
  • गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी बीएड प्रवेश परीक्षा
  • इग्नू शिक्षा प्रवेश परीक्षा

बी.एड कोर्स की फीस-

B.Ed कोर्स के लिए कोर्स 5 हजार पर ईयर से लेकर 100000 पर ईयर तक भी हो सकता है ।
सरकारी कॉलेज का फीस जहां कम होता है वहीं प्राइवेट कॉलेज का फीस ज्यादा होता है।

भारत में शीर्ष B. Ed कॉलेज-

  • डीएम कॉलेज ऑफ टीचर एजुकेशन, इंफाल
  • गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • दयानंद महिला प्रशिक्षण महाविद्यालय, देहरादून
  • लॉर्ड कृष्णा कॉलेज ऑफ एजुकेशन, अंबाला
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर
  • एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा
  • लोरेटो कॉलेज, कोलकाता
  • गवर्नमेंट कॉलेज फॉर विमेन एजुकेशन, कोयंबटूर
  • रांची विश्वविद्यालय, रांची
  • जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • बॉम्बे टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज, मुंबई
  • क्रिश्चियन कोलाज ऑफ एजुकेशन, कन्याकुमारी
  • गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ एजुकेशन, चंडीगढ़
  • विद्यासागर शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय, मिदनापुर
  • अन्नामलाई विश्वविद्यालय, चिदंबरम
  • मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई
  • आइशाबाई कोलज ऑफ एजुकेशन, मुंबई
  • गीता बजाज महिला शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान, जयपुर
  • सेंट्रल इंडिया कॉलेज ऑफ एजुकेशन, नागपुर
  • पटना विश्वविद्यालय, पटना
  • इंस्टिट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडी इन एजुकेशन, चेन्नई
  • ग्रीन वैली कॉलेज ऑफ एजुकेशन, भोपाल
  • आंध्र विश्वविद्यालय, विशाखापत्तनम
  • लेडी इरविन कॉलेज, नई दिल्ली
  • लेडी श्री राम कॉलेज फॉर विमेन, नई दिल्ली

बीएड कोर्स के बाद करियर विकल्प-

B.Ed कोर्स करने के बाद आपके पास कैरियर के कई ऑप्शन होते हैं, जैसे कि आप हायर एजुकेशन के लिए जा सकते हैं, या फिर नौकरी के लिए जा सकते हैं ।
हायर एजुकेशन में आप M.Ed या एजुकेशन में पीएचडी कर सकते हैं।

अगर आप जॉब करना चाहते हैं तो टीचर की नौकरी के अलावे भी आपके पास कई ऑप्शंस होते हैं-

टीचर –

अगर आप टीचर की नौकरी करना चाहते हैं तो उसके बहुत सारे मौके होते हैं टीचर के रूप में आप का मुख्य काम छात्रों को पढ़ाना होता है।
इसमें आपको दो से चार लाख पर ईयर तक की कमाई हो सकती है।

लायब्रेरीयन-

B.Ed करने के बाद आपके पास लाइब्रेरियन के रूप में काम करने का भी मौका होता है।

जहां आपको लाइब्रेरी को सही ढंग से मैनेज करना होता है यहां भी आप डेढ़ से ₹300000 पर साल तक कमा सकते हैं।

काउन्सिलर –

बहुत सारे लोगों को B.Ed करने के बाद काउंसलर के रूप में नौकरी मिल जाता है जहां उनका काम बच्चों का काउंसलिंग करना होता है ।
यहां भी लोग तीन से ₹500000 तक हर साल कमा लेते हैं।

 

B.Ed करने के बाद अगर आप प्राइवेट स्कूल में नौकरी करना चाहते हैं तो आप सीधे ज्वाइन कर सकते हैं ।
मगर सरकारी नौकरी के लिए आपको एग्जाम लिखना होता है अलग-अलग स्टेट्स में टीचर की नौकरी के लिए अलग-अलग एग्जाम होते हैं।

जैसे- TET – Teacher Eligibility Test

 

मुझे उम्मीद है कि बीएड के पूर्ण रूप के बारे में यह लेख, आपको बैचलर ऑफ आर्ट्स कोर्स को समझने में मदद करेगा।
अगर आपका कोई सुझाव या सवाल है। हमारे विशेषज्ञ आपकी सहायता करेंगे। आप अन्य पाठ्यक्रमों के पूर्ण रूप को भी देख सकते हैं, जैसे कि ITI का पूर्ण रूप

बीएड कोर्स की पूरी हिंदी में पढ़ने के लिए विज़िट करे। , बैचलर ऑफ़ एजुकेशन कोर्स के बारे में पूरी जानकारी  English में जानने के लिए कैरियर कनेक्शन पर जाएँ।

2 thoughts on “B. Ed (बीएड)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe to our newsletter to get latest updates and news

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.

We keep your data private and share your data only with third parties that make this service possible. See our Privacy Policy for more information.